Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 11.4 Download BG 11.4 as Image

⮪ BG 11.3 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 11.5⮫

Bhagavad Gita Chapter 11 Verse 4

भगवद् गीता अध्याय 11 श्लोक 4

मन्यसे यदि तच्छक्यं मया द्रष्टुमिति प्रभो।
योगेश्वर ततो मे त्वं दर्शयाऽत्मानमव्ययम्।।11.4।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 11.4)

।।11.4।।हे प्रभो मेरे द्वारा आपका वह परम ऐश्वर रूप देखा जा सकता है -- ऐसा अगर आप मानते हैं तो हे योगेश्वर आप अपने उस अविनाशी स्वरूपको मुझे दिखा दीजिये।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।11.4।। हे प्रभो यदि आप मानते हैं कि मेरे द्वारा वह आपका रूप देखा जाना संभव है? तो हे योगेश्वर आप अपने अव्यय रूप का दर्शन कराइये।।