Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 11.35 Download BG 11.35 as Image

⮪ BG 11.34 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 11.36⮫

Bhagavad Gita Chapter 11 Verse 35

भगवद् गीता अध्याय 11 श्लोक 35

सञ्जय उवाच
एतच्छ्रुत्वा वचनं केशवस्य
कृताञ्जलिर्वेपमानः किरीटी।
नमस्कृत्वा भूय एवाह कृष्णं
सगद्गदं भीतभीतः प्रणम्य।।11.35।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 11.35)

।।11.35।।सञ्जय बोले -- भगवान् केशवका यह वचन सुनकर भयसे कम्पित हुए किरीटी अर्जुन हाथ जोड़कर नमस्कार करके और अत्यन्त भयभीत होकर फिर प्रणाम करके सगद्गदं वाणीसे भगवान् कृष्णसे बोले।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।11.35।। संजय ने कहा -- केशव भगवान् के इस वचन को सुनकर मुकुटधारी अर्जुन हाथ जोड़े हुए? कांपता हुआ नमस्कार करके पुन भयभीत हुआ श्रीकृष्ण के प्रति गद्गद् वाणी से बोला।।