Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 11.28 Download BG 11.28 as Image

⮪ BG 11.27 Bhagwad Gita Shri Vaishnava Sampradaya BG 11.29⮫

Bhagavad Gita Chapter 11 Verse 28

भगवद् गीता अध्याय 11 श्लोक 28

यथा नदीनां बहवोऽम्बुवेगाः
समुद्रमेवाभिमुखाः द्रवन्ति।
तथा तवामी नरलोकवीरा
विशन्ति वक्त्राण्यभिविज्वलन्ति।।11.28।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 11.28)

।।11.28।।जैसे नदियोंके बहुतसे जलके प्रवाह स्वाभाविक ही समुद्रके सम्मुख दौड़ते हैं? ऐसे ही वे संसारके महान् शूरवीर आपके प्रज्वलित मुखोंमें प्रवेश कर रहे हैं।

Shri Vaishnava Sampradaya - Commentary