Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 11.2 Download BG 11.2 as Image

⮪ BG 11.1 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 11.3⮫

Bhagavad Gita Chapter 11 Verse 2

भगवद् गीता अध्याय 11 श्लोक 2

भवाप्ययौ हि भूतानां श्रुतौ विस्तरशो मया।
त्वत्तः कमलपत्राक्ष माहात्म्यमपि चाव्ययम्।।11.2।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 11.2)

।।11.2।।हे कमलनयन सम्पूर्ण प्राणियोंकी उत्पत्ति और प्रलय मैंने विस्तारपूर्वक आपसे ही सुना है और आपका अविनाशी माहात्म्य भी सुना है।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।11.2।। हे कमलनयन मैंने भूतों की उत्पत्ति और प्रलय आपसे विस्तारपूर्वक सुने हैं तथा आपका अव्यय माहात्म्य (प्रभाव) भी सुना है।।