Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 11.13 Download BG 11.13 as Image

⮪ BG 11.12 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 11.14⮫

Bhagavad Gita Chapter 11 Verse 13

भगवद् गीता अध्याय 11 श्लोक 13

तत्रैकस्थं जगत्कृत्स्नं प्रविभक्तमनेकधा।
अपश्यद्देवदेवस्य शरीरे पाण्डवस्तदा।।11.13।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 11.13)

।।11.13।।उस समय अर्जुनने देवोंके देव भगवान्के शरीरमें एक जगह स्थित अनेक प्रकारके विभागोंमें विभक्त सम्पूर्ण जगत्को देखा।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।11.13।। पाण्डुपुत्र अर्जुन ने उस समय अनेक प्रकार से विभक्त हुए सम्पूर्ण जगत् को देवों के देव श्रीकृष्ण के शरीर में एक स्थान पर स्थित देखा।।