Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 10.5 Download BG 10.5 as Image

⮪ BG 10.4 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 10.6⮫

Bhagavad Gita Chapter 10 Verse 5

भगवद् गीता अध्याय 10 श्लोक 5

अहिंसा समता तुष्टिस्तपो दानं यशोऽयशः।
भवन्ति भावा भूतानां मत्त एव पृथग्विधाः।।10.5।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 10.5)

।।10.5।।बुद्धि? ज्ञान? असम्मोह? क्षमा? सत्य? दम? शम? सुख? दुःख? भव? अभाव? भय? अभय? अहिंसा? समता? तुष्टि? तप? दान? यश और अपयश -- प्राणियोंके ये अनेक प्रकारके और अलगअलग (बीस) भाव मेरेसे ही होते हैं।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।10.5।। अहिंसा? समता? सन्तोष? तप? दान? यश और अपयश ऐसे ये प्राणियों के नानाविध भाव मुझ से ही प्रकट होते हैं।।