Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 10.41 Download BG 10.41 as Image

⮪ BG 10.40 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 10.42⮫

Bhagavad Gita Chapter 10 Verse 41

भगवद् गीता अध्याय 10 श्लोक 41

यद्यद्विभूतिमत्सत्त्वं श्रीमदूर्जितमेव वा।
तत्तदेवावगच्छ त्वं मम तेजोंऽशसंभवम्।।10.41।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 10.41)

।।10.41।।जोजो ऐश्वर्ययुक्त शोभायुक्त और बलयुक्त वस्तु है? उसउसको तुम मेरे ही तेज(योग) के अंशसे उत्पन्न हुई समझो।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।10.41।। जो कोई भी विभूतियुक्त? कान्तियुक्त अथवा शक्तियुक्त वस्तु (या प्राणी) है? उसको तुम मेरे तेज के अंश से ही उत्पन्न हुई जानो।।