Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 10.34 Download BG 10.34 as Image

⮪ BG 10.33 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 10.35⮫

Bhagavad Gita Chapter 10 Verse 34

भगवद् गीता अध्याय 10 श्लोक 34

मृत्युः सर्वहरश्चाहमुद्भवश्च भविष्यताम्।
कीर्तिः श्रीर्वाक्च नारीणां स्मृतिर्मेधा धृतिः क्षमा।।10.34।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 10.34)

।।10.34।।सबका हरण करनेवाली मृत्यु और उत्पन्न होनेवालोंका उद्भव मैं हूँ तथा स्त्रीजातिमें कीर्ति? श्री? वाक्? स्मृति? मेधा? धृति और क्षमा मैं हूँ।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।10.34।। मैं सर्वभक्षक मृत्यु और भविष्य में होने वालों की उत्पत्ति का कारण हूँ स्त्रियों में कीर्ति? श्री? वाक (वाणी)? स्मृति? मेधा? धृति और क्षमा हूँ।।