Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 10.33 Download BG 10.33 as Image

⮪ BG 10.32 Bhagwad Gita Brahma Vaishnava Sampradaya BG 10.34⮫

Bhagavad Gita Chapter 10 Verse 33

भगवद् गीता अध्याय 10 श्लोक 33

अक्षराणामकारोऽस्मि द्वन्द्वः सामासिकस्य च।
अहमेवाक्षयः कालो धाताऽहं विश्वतोमुखः।।10.33।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।10.33।। मैं अक्षरों (वर्णमाला) में अकार और समासों में द्वन्द्व (नामक समास) हूँ मैं अक्षय काल और विश्वतोमुख (विराट् स्वरूप) धाता हूँ।।

Brahma Vaishnava Sampradaya - Commentary