Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 10.31 Download BG 10.31 as Image

⮪ BG 10.30 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 10.32⮫

Bhagavad Gita Chapter 10 Verse 31

भगवद् गीता अध्याय 10 श्लोक 31

पवनः पवतामस्मि रामः शस्त्रभृतामहम्।
झषाणां मकरश्चास्मि स्रोतसामस्मि जाह्नवी।।10.31।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 10.31)

।।10.31।।पवित्र करनेवालोंमें वायु और शास्त्रधारियोंमें राम मैं हूँ। जलजन्तुओंमें मगर मैं हूँ। बहनेवाले स्रोतोंमें गङ्गाजी मैं हूँ।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।10.31।। मैं पवित्र करने वालों में वायु हूँ और शस्त्रधारियों में राम हूँ तथा मत्स्यों (जलचरों) में मैं मगरमच्छ और नदियों में मैं गंगा हूँ।।