Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 10.25 Download BG 10.25 as Image

⮪ BG 10.24 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 10.26⮫

Bhagavad Gita Chapter 10 Verse 25

भगवद् गीता अध्याय 10 श्लोक 25

महर्षीणां भृगुरहं गिरामस्म्येकमक्षरम्।
यज्ञानां जपयज्ञोऽस्मि स्थावराणां हिमालयः।।10.25।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 10.25)

।।10.25।।महर्षियोंमें भृगु और वाणियों(शब्दों) में एक अक्षर अर्थात् प्रणव मैं हूँ। सम्पूर्ण यज्ञोंमें जपयज्ञ और स्थिर रहनेवालोंमें हिमालय मैं हूँ।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।10.25।। मैं महर्षियों में भृगु और वाणी (शब्दों) में एकाक्षर ओंकार हूँ। मैं यज्ञों में जपयज्ञ और स्थावरों (अचलों) में हिमालय हूँ।।