Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 10.19 Download BG 10.19 as Image

⮪ BG 10.18 Bhagwad Gita Swami Ramsukhdas Ji BG 10.20⮫

Bhagavad Gita Chapter 10 Verse 19

भगवद् गीता अध्याय 10 श्लोक 19

श्री भगवानुवाच
हन्त ते कथयिष्यामि दिव्या ह्यात्मविभूतयः।
प्राधान्यतः कुरुश्रेष्ठ नास्त्यन्तो विस्तरस्य मे।।10.19।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 10.19)

।।10.19।।श्रीभगवान् बोले -- हाँ? ठीक है। मैं अपनी दिव्य विभूतियोंको तेरे लिये प्रधानतासे (संक्षेपसे) कहूँगा क्योंकि हे कुरुश्रेष्ठ मेरी विभूतियोंके विस्तारका अन्त नहीं है।

हिंदी टीका - स्वामी रामसुख दास जी

।।10.19।। व्याख्या --   हन्त ते कथयिष्यामि दिव्या ह्यात्मविभूतयः -- योग और विभूति कहनेके लिये अर्जुनकी जो प्रार्थना है? उसको हन्त अव्ययसे स्वीकार करते हुए भगवान् कहते हैं कि मैं अपनी दिव्य? अलौकिक? विलक्षण विभूतियोंको तेरे लिये कहूँगा (योगकी बात भगवान्ने आगे इकतालीसवें श्लोकमें कही है)।दिव्याः कहनेका तात्पर्य है कि जिस किसी वस्तु? व्यक्ति? घटना आदिमें जो कुछ भी विशेषता दीखती है? वह,वस्तुतः भगवान्की ही है। इसलिये उसको भगवान्की ही देखना दिव्यता है और वस्तु? व्यक्ति आदिकी देखना अदिव्यता अर्थात् लौकिकता है।प्राधान्यतः कुरुश्रेष्ठ नास्त्यन्तो विस्तरस्य मे -- जब अर्जुनने कहा कि भगवन् आप अपनी विभूतियोंको विस्तारसे? पूरीकीपूरी कह दें? तब भगवान् कहते हैं कि मैं अपनी विभूतियोंको संक्षेपसे कहूँगा क्योंकी मेरी विभूतियोंका अन्त नहीं है। पर आगे ग्यारहवें अध्यायमें जब अर्जुन बड़े संकोचसे कहते हैं कि मैं आपका विश्वरूप देखना चाहता हूँ अगर मेरे द्वारा वह रूप देखा जाना शक्य है तो दिखा दीजिये? तब भगवान् कहते हैं -- पश्य मे पार्थ रूपाणि (11। 5) अर्थात् तू मेरे रूपोंको देख ले। रूपोंमें कितने रूप क्या दोचार नहींनहीं? सैकड़ोंहजारों रूपोंको देख इस प्रकार यहाँ अर्जुनकी विस्तारसे विभूतियाँ कहनेकी प्रार्थना सुनकर भगवान् संक्षेपसे विभूतियाँ सुननेके लिये कहते हैं और वहाँ अर्जुनकी एक रूप दिखानेकी प्रार्थना सुनकर भगवान् सैकड़ोंहजारों रूप देखनेके लिये कहते हैं,यह एक बड़े आश्चर्यकी बात है कि सुननेमें तो आदमी बहुत सुन सकता है? पर उतना नेत्रोंसे देख नहीं सकता क्योंकि देखनेकी शक्ति कानोंकी अपेक्षा सीमित होती है (टिप्पणी प0 553)। फिर भी जब अर्जुनने सम्पूर्ण विभूतियोंको सुननेमें अपनी सामर्थ्य बतायी तो भगवान्ने संक्षेपसे सुननेके लिये कहा और जब अर्जुनने एक रूपको देखनेमें नम्रतापूर्वक अपनी असमर्थता प्रकट की तो भगवान्ने अनेक रूप देखनेके लिये कहा इसका कारण यह है कि गीतामें अर्जुनका भगवद्विषयक ज्ञान उत्तरोत्तर बढ़ता जाता है। इस दसवें अध्यायमें जब भगवान्ने यह कहा कि मेरी विभूतियोंका अन्त नहीं है? तब अर्जुनकी दृष्टि भगवान्की अनन्तताकी तरफ चली गयी। उन्होंने समझा कि भगवान्के विषयमें तो मैं कुछ भी नहीं जानता क्योंकि भगवान् अनन्त हैं? असीम हैं? अपार हैं। परन्तु अर्जुनने भूलसे कह दिया कि आप अपनी सबकीसब विभूतियाँ कह दीजिये। इसलिये अर्जुन आगे चलकर सावधान हो जाते हैं और नम्रतापूर्वक एक रूपको दिखानेके लिये ही भगवान्से प्रार्थना करते हैं। नेत्रोंकी शक्ति सीमित होते हुए भी भगवान् दिव्य चक्षु प्रदान करके अर्थात् चर्मचक्षुओंमें विशेष शक्ति प्रदान करके अपने अनेक रूपोंको देखनेकी आज्ञा देते हैं।दूसरी बात? वक्ताकी व्यक्तिगत बात पूछी जाय और अपनी अज्ञता तथा अयोग्यतापूर्वक अपने जाननेके लिये प्रार्थना की जाय -- इन दोनोंमें फरक होता है। यहाँ अर्जुनने विस्तारपूर्वक विभूतियाँ कहनेके लिये कहकर भगवान्की थाह लेनी चाही? तो भगवान्ने कह दिया कि मैं तो संक्षेपसे कहूँगा क्योंकि मेरी विभूतियोंकी थाह नहीं है। ग्यारहवें अध्यायमें अर्जुनने अपनी अज्ञता और अयोग्यता प्रकट करते हुए भगवान्से अपना अव्यय रूप दिखानेकी प्रार्थना की? तो भगवान्ने अपने अनन्तरूप देखनेके लिये आज्ञा दी और उनको देखनेकी सामर्थ्य (दिव्य दृष्टि) भी दी इसलिये साधकको किञ्चिन्मात्र भी अपना आग्रह? अहंकार न रखकर और अपनी सामर्थ्य? बुद्धि न लगाकर केवल भगवान्पर ही सर्वथा निर्भर हो जाना चाहिये क्योंकि भगवान्की निर्भरतासे जो चीज मिलती है? वह अपार मिलती है। सम्बन्ध --  विभूतियाँ और योग -- इन दोनोंमेंसे पहले भगवान् बीसवें श्लोकसे उनतालीसवें श्लोकतक अपनी बयासी विभूतियोंका वर्णन करते हैं।