Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 10.13 Download BG 10.13 as Image

⮪ BG 10.12 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 10.14⮫

Bhagavad Gita Chapter 10 Verse 13

भगवद् गीता अध्याय 10 श्लोक 13

आहुस्त्वामृषयः सर्वे देवर्षिर्नारदस्तथा।
असितो देवलो व्यासः स्वयं चैव ब्रवीषि मे।।10.13।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 10.13)

।।10.13।।अर्जुन बोले -- परम ब्रह्म? परम धाम और महान् पवित्र आप ही हैं। आप शाश्वत? दिव्य पुरुष? आदिदेव? अजन्मा और विभु (व्यापक) हैं -- ऐसा सबकेसब ऋषि? देवर्षि नारद? असित? देवल तथा व्यास कहते हैं और स्वयं आप भी मेरे प्रति कहते हैं।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।10.13।। ऐसा आपको समस्त ऋषिजन कहते हैं वैसे ही देवर्षि नारद? असित? देवल ऋषि तथा व्यास और स्वयं आप भी मेरे प्रति कहते हैं।।