Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 10.12 Download BG 10.12 as Image

⮪ BG 10.11 Bhagwad Gita Swami Chinmayananda BG 10.13⮫

Bhagavad Gita Chapter 10 Verse 12

भगवद् गीता अध्याय 10 श्लोक 12

अर्जुन उवाच
परं ब्रह्म परं धाम पवित्रं परमं भवान्।
पुरुषं शाश्वतं दिव्यमादिदेवमजं विभुम्।।10.12।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।10.12।। अर्जुन ने कहा आप परम ब्रह्म? परम धाम और परम पवित्र हंै सनातन दिव्य पुरुष? देवों के भी आदि देव? जन्म रहित और सर्वव्यापी हैं।।

हिंदी टीका - स्वामी चिन्मयानंद जी

।।10.12।। See commentary under 10.13.