Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 10.10 Download BG 10.10 as Image

⮪ BG 10.9 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 10.11⮫

Bhagavad Gita Chapter 10 Verse 10

भगवद् गीता अध्याय 10 श्लोक 10

तेषां सततयुक्तानां भजतां प्रीतिपूर्वकम्।
ददामि बुद्धियोगं तं येन मामुपयान्ति ते।।10.10।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 10.10)

।।10.10।।उन नित्यनिरन्तर मेरेमें लगे हुए और प्रेमपूर्वक मेरा भजन करनेवाले भक्तोंको मैं वह बुद्धियोग देता हूँ? जिससे उनको मेरी प्राप्ति हो जाती है।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।10.10।। उन (मुझ से) नित्य युक्त हुए और प्रेमपूर्वक मेरा भजन करने वाले भक्तों को? मैं वह बुद्धियोग देता हूँ जिससे वे मुझे प्राप्त होते हैं।।