Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 1.42 Download BG 1.42 as Image

⮪ BG 1.41 Bhagwad Gita Shri Vaishnava Sampradaya BG 1.43⮫

Bhagavad Gita Chapter 1 Verse 42

भगवद् गीता अध्याय 1 श्लोक 42

सङ्करो नरकायैव कुलघ्नानां कुलस्य च।
पतन्ति पितरो ह्येषां लुप्तपिण्डोदकक्रियाः।।1.42।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 1.42)

।।1.42।।वर्णसंकर कुलघातियोंको और कुलको नरकमें ले जानेवाला ही होता है। श्राद्ध और तर्पण न मिलनेसे इन(कुलघातियों) के पितर भी अपने स्थानसे गिर जाते हैं।

Shri Vaishnava Sampradaya - Commentary

There is no commentary for this verse.