Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 1.33 Download BG 1.33 as Image

⮪ BG 1.32 Bhagwad Gita Swami Chinmayananda BG 1.34⮫

Bhagavad Gita Chapter 1 Verse 33

भगवद् गीता अध्याय 1 श्लोक 33

येषामर्थे काङ्क्षितं नो राज्यं भोगाः सुखानि च।
त इमेऽवस्थिता युद्धे प्राणांस्त्यक्त्वा धनानि च।।1.33।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।1.33।।हमें जिनके लिये राज्य भोग और सुखादि की इच्छा है वे ही लोग धन और जीवन की आशा को त्यागकर युद्ध में खड़े हैं।

हिंदी टीका - स्वामी चिन्मयानंद जी

।।1.33।। No commentary.