Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 1.32 Download BG 1.32 as Image

⮪ BG 1.31 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 1.33⮫

Bhagavad Gita Chapter 1 Verse 32

भगवद् गीता अध्याय 1 श्लोक 32

न काङ्क्षे विजयं कृष्ण न च राज्यं सुखानि च।
किं नो राज्येन गोविन्द किं भोगैर्जीवितेन वा।।1.32।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 1.32)

।।1.32।।हे कृष्ण मैं न तो विजय चाहता हूँ? न राज्य चाहता हूँ और न सुखोंको ही चाहता हूँ। हे गोविन्द हमलोगोंको राज्यसे क्या लाभ भोगोंसे क्या लाभ अथवा जीनसे भी क्या लाभ

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।1.32।।हे कृष्ण मैं न विजय चाहता हूँ न राज्य और न सुखों को ही चाहता हूँ। हे गोविन्द हमें राज्य से अथवा भोगों से और जीने से भी क्या प्रयोजन है।