Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 1.30 Download BG 1.30 as Image

⮪ BG 1.29 Bhagwad Gita Shri Vaishnava Sampradaya BG 1.31⮫

Bhagavad Gita Chapter 1 Verse 30

भगवद् गीता अध्याय 1 श्लोक 30

गाण्डीवं स्रंसते हस्तात्त्वक्चैव परिदह्यते।
न च शक्नोम्यवस्थातुं भ्रमतीव च मे मनः।।1.30।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 1.30)

।।1.28 1.30।।अर्जुन बोले हे कृष्ण युद्धकी इच्छावाले इस कुटुम्बसमुदायको अपने सामने उपस्थित देखकर मेरे अङ्ग शिथिल हो रहे हैं और मुख सूख रहा है तथा मेरे शरीरमें कँपकँपी आ रही है एवं रोंगटे खड़े हो रहे हैं। हाथसे गाण्डीव धनुष गिर रहा है और त्वचा भी जल रही है। मेरा मन भ्रमितसा हो रहा है और मैं खड़े रहनेमें भी असमर्थ हो रहा हूँ।

Shri Vaishnava Sampradaya - Commentary

There is no commentary for this verse.