Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 1.3 Download BG 1.3 as Image

⮪ BG 1.2 Bhagwad Gita Swami Chinmayananda BG 1.4⮫

Bhagavad Gita Chapter 1 Verse 3

भगवद् गीता अध्याय 1 श्लोक 3

पश्यैतां पाण्डुपुत्राणामाचार्य महतीं चमूम्।
व्यूढां द्रुपदपुत्रेण तव शिष्येण धीमता।।1.3।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।1.3।।हे आचार्य आपके बुद्धिमान शिष्य द्रुपदपुत्र (धृष्टद्युम्न) द्वारा व्यूहाकार खड़ी की गयी पाण्डु पुत्रों की इस महती सेना को देखिये।

हिंदी टीका - स्वामी चिन्मयानंद जी

।।1.3।। वास्तव में दुर्योधन की यह मूर्खता है कि वह द्रोणाचार्य को पाण्डवों की सैन्य रचना के विषय में विस्तार से बताये। आगे हम देखेंगे कि वह आवश्यकता से अधिक बातें करता है जो युद्ध के परिणाम के विषय में उसके संदेह का स्पष्ट लक्षण है।